• 473
    0

    जो कुछ तुम्हें मिला है क्यों उससे संतुष्ट नहीं हो तुम…! जो नहीं मिला क्यों उसे पाना चाहते हो…! जो कभी नहीं मिल सकता क्यों उसके ...
  • 584
    2

    कितने दुखी हो तुम इस जिंदगी से जैसे जिंदगी कोई सजा हो तुम्हारे लिए शायद इसलिए कि तुम्हें सिर्फ सुखों की चाहत है दुखों से दूर ...
  • 532
    6

    दिल में आस और मन में आत्मविश्वास लिए तुम मंजिल की ओर बढ़े चले जा रहे हो तुम्हारी निगाहें सिर्फ मंजिल की ओर हैं यह अच्छी ...
  • 280
    2

    ‘आज इतनी सुबह से ही कौन आ गया?’सोचते हुए मैंने दरवाजा खोला। ‘अरे अवनि तुम….इतनी सुबह से…सब ठीक तो है न…?’ ‘बस ऐसे ही….आज आपका हैप्पी ...
  • 442
    2

    आज मंगनी के दिन पहली बार ही उदया ने अलख को देखा था!बिल्कुल वैसा ही,जैसे उसने सपने में किसी राजकुमार की कल्पना की थी।और जब बहू ...
  • 363
    0

    एक छोटे से दुख से हार मानकर तुम जिंदगी जीना छोड़ दोगे- – -? थोड़ा सा कुछ खोने पर कितनी शिकायत है तुम्हें जिंदगी से उन ...
  • 417
    2

    अभिना तो बस अपनी सपनों की दुनियाँ में खोई हुई है।उसकी नजरों में ‘कोर्टशिप पीरियड’का मतलब है सिर्फ मौज-मस्ती। पर निकित! वह अपनी आने वाली जिंदगी ...
  • 294
    0

    मम्मा बचाओ….मम्मा बचाओ….अरे, यह तो रिदम की आवाज है,अंशुमी किचिन का काम छोड़कर बाहर की ओर भागी। रिदम….रिदम…कहां हो तुम,चिल्लाते हुए वह मेनगेट की तरफ आगे ...
  • 418
    0

    आज बड़ी उदास लग रही हो?आफिस से आकर सोफे पर बैठते हुए आत्मिक ने समीहा को टोका। “मेरे साथ कितना बड़ा धोखा हुआ है”समीहा ने रोते ...
  • 526
    0

    वक्त अपनी रफ्तार से चल रहा है तुम चलो न चलो पर तुम्हें रुकना नहीं है जीवन पथ पर निरंतर आगे बढ़ते जाना है वक्त के ...