• 451
    2

    कल मैंने देखा था तुम्हें अपने जन्मदिन के एक समारोह में गरीबों को कंबल,अनाज,फल और रूपये बांटते हुए और आज उस गरीब को तुमने अपने दरवाजे ...
  • 393
    0

    अरे आरोही!तू यहां….?अपनी फास्ट फ्रेंड आरोही को पूना की एक फाइव स्टार होटल में अचानक देखकर राहा बोली! हाँ यार!तुझे पता है मुझे भी पूना में ...
  • 407
    0

    तुम पतझड़ में उजड़े हुए बाग की तरफ देखते ही क्यों हो….! खिले हुए चमन को देखो ना तुम ठहरे हुए तालाब के पानी को देखते ...
  • 341
    0

    शादी के 5 साल बाद भी बिरहा मां नहीं बन पाई बस इसी बात की चिंता उसे खाए जा रही है। सासू मां अक्सर उसे इस ...
  • 358
    4

    अब बदल गया जमाना है यहाँ हर कोई दौलत का दीवाना है इंसा का ईमान है दौलत दौलत ही भगवान है दौलत से आंकी जाती है ...
  • 341
    0

    साहिल सुबह उठकर न्यूजपेपर पढ़ने बैठ गए!अनामि चुपचाप उनके टेबिल पर चाय रखकर चली गई! “सराहा,शीर्ष नाश्ता नहीं करना क्या?ये आजकल के बच्चे भी न,पूरे समय ...
  • 654
    2

    हम उन्हें बुराई का बदला अच्छाई से देते रहे उनकी हर नफरत का जबाब प्यार से देते रहे क्योंकि हम जानते हैं कि बुराई को अच्छाई ...
  • 396
    0

    डियर विभोर आप कैसे हैं? इन दो सालों में आपने मेरे साथ जो किया है उससे तो मैं अनुमान लगा सकती हूं कि आप मुझसे दूर ...
  • 538
    2

    शक खड़ी कर देता है इंसानों के बीच नफरत की एक दीवार शक बड़ा देता है रिश्तों में दूरियां शक पैदा कर देता है संबंधों में ...
  • 385
    0

    आज मेरे टीचर ने स्कूल में सबके सामने मुझे जलील किया सिर्फ इसलिए कि छः महीने से मेरी स्कूल फीस जमा नहीं हो पाई थी।बहुत आहत ...